उम्र-ए-दराज़ माँग के लाई थी चार दिन,

दो आरज़ू में कट गए दो इंतिज़ार में।