दिल न-उम्मीद तो नहीं, नाकाम ही तो है,

लम्बी है ग़म की शाम, मगर शाम ही तो है।